दहेज के खिलाफ शरीयत इलाज मुबारक खान का प्रयास बने बुंदेलखंड की आन बान शान – एडवोकेट तलहा रशादी

अगर अमीर लोग अपने बच्चों की शादियों को सादगी के साथ करने लग जाएं तो यही ग़रीबों की सबसे बड़ी मदद होगी : एडवोकेट मुबारक खान

हिंद राष्ट्र न्यूज़ जालौन।

ओलमा कौंसिल के नेता मुबारक खान के मुताबिक राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं मौलाना आमिर रशादी साहब के बड़े शहजादे पार्टी प्रवक्ता एडवोकेट तलहा रशादी साहब,राष्ट्रीय अध्यक्ष जी के निजी सचिव मो नसीम साहब,प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल मजीद नंदी साहब,मंडल अध्यक्ष अब्दुल हमीद,जिला महासचिव मु गुलजार अंसारी,वरिष्ठ नेता इक़बाल उल हक सहित तमाम जिले के जनप्रतिनिधिओं ने २५ मई को उरई ज़िला जालौन में Rashtriya Ulama Council के बुंदेलखंड प्रभारी मुबारक खान के निकाह में पार्टी के तमाम साथियों के साथ शामिल हुए।

उलेमा काउंसिल के प्रवक्ता तलहा रशादी नें कहा माशा अल्लाह मुबारक भाई ने वालिद मोहतरम पार्टी के क़ौमी सदर Maulana Aamir Rashadi Madni साहब की बारात जहेज़ मुखालिफ मुहिम को अमल में लाते हुए अपने इलाके में बिना बारात-जहेज़ के सादगी से निकाह कर एक नई मिसाल क़ायम की जो कि बुंदेलखंड इलाके के लिए अजीब और नायाब बात थी।

राष्ट्रीय ओलमा काउंसिल प्रवक्ता एडवोकेट तलहा रशादी ने बुंदेलखंड की आन बान शां मुबारक भाई को ढेर सारी मुबारकबाद देते हुए कहा की आज वास्तव मे मुबारक खान असल हीरो बने है जिन्होंने अपनी अहालिया के वालिद के दर्द को महसूस कर अपने वालिद को समझा बुझाकर दहेज़ जैसी कुप्रथा को ख़त्म करने का प्रयास किया हम सब मिलकर इनके परिवार के लिए दुआ दीजिये की अल्लाह इस नए जोड़े को खुश रखे, सलामत रखे और एक दूसरे को मुकम्मल करने वाला ।

राष्ट्रीय ओलमा काउंसिल बुंदेलखंड प्रभारी एडवोकेट मुबारक खान ने hindrashtra.com न्यूज़ टीम से अपनी बात रखते हुए बताया की कुछ दिन पहले बुंदेली दहेज़ कुप्रथा को खत्म करने के लिए कुछ विचार किए गए किसी शहर मे डीजे तो किसी मे बैंड तो किसी मे नजराना को लेकर बात चली लेकिन किसी ने दहेज़ पर बात नही किया लेकिन कुछ सभ्य समझदार लोग मेरी बात से सहमत हुए की डीजे बैंड या नजराना से नही बल्कि दहेज़ जैसी बीमारी को न लेकर न देकर इस समस्या से निकला जा सकता है।

मुबारक खान ने बताया कि इस पर कुछ लोगो ने मजाक मे लिया तब हमने अपने परिवार मे बात रखी की हम बिना दहेज़ लिए शादी करेंगे मुझे यकीन नही था की हमारे बालिद मानेगे लेकिन बिना कुछ सोचे समझे हा कर दिया आज हमे 25 मई को निकाह किया हद से ज्यादा लोग इकट्ठे हुए और दुआ से नवाजते हुए कहा वास्तव आपने कर दिखाया जो कहा था अल्लाह आपको तरक्की दे।

इस सामाजिक पहल से वास्तव मे राष्ट्रीय ओलमा कौन्सिल नेता बुंदेलखंड के रियल हीरो बने तो वही दहेज लोभियों के मुह पर तमाचा लगा जो इतना तेज है की वो तर्क दे रहे की यह पागल है जो ऐसे ही शादी कर ली लेकिन हकीकत यह की की शरीयत के हिसाब से शादी का यही मकसद है किसी को परेशानी न करनी पड़ी बड़े पीर साहब दरगाह राठ से मुफ़्ती कौसर साहब ने मुबारक नसरीन खान का निकाह पढ़ाया और अपनी तक़रीर मे कहा की मुबारक भाई ने एक अच्छी कोशिश की है बुंदेलखंड मे सर्वजनिक रूप मे शरियत तौर पर यह पहली शादी है जिसे हम सब आज यह सोचकर जाना चाहिए की हमे और हमारे बच्चों को दहेज़ जैसी बीमारी को खत्म करने के लिए यह पहल है यदि इसी तरह हमने अमल किया तो इंशाल्लाह आज हमारे बच्चों के साथ दहेज़ जैसी कुप्रथा साथ ही बेहाई को ख़त्म किया जा सकता है।

इस दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल मजीद नंदी मोठ,हाजी सुबराती खान रिटार्ड रजिस्टार, सीओ सिटी,कोतबाल प्रभारी उरई, पत्रकार बंधु,तमाम जनप्रतिनिधियों ने आकर मुबारक खान को शादी की मुबारकबाद पेश की।

Open chat
1
हमसे जुड़ें:
अपने जिला से पत्रकारिता करने हेतु जुड़े।
WhatsApp: 099273 73310
दिए गए व्हाट्सएप नंबर पर अपनी डिटेल्स भेजें।
खबर एवं प्रेस विज्ञप्ति और विज्ञापन भेजें।
hindrashtra@outlook.com
Website: www.hindrashtra.com
Download hindrashtra android App from Google Play Store