संयुक्त किसान मोर्चा ने पूर्वी उ.प्र.के सभी किसान संगठनों से 22अक्टूबर2022 को आजमगढ़ आने के लिए किया आह्वान।

आजमगढ़।संयुक्त किसान मोर्चा के तत्वाधान में विविध संगठनों के साथियों ने मंदुरी हवाई पट्टी को अंतर्राष्ट्रिय हवाई अड्डे के रुप में विस्तारिकरण के नाम पर गांवों की जमीन छिनने के खिलाफ जारी सातवें दिन के भी क्रमिक धरने में शामिल होकर समर्थन दिया।

संयुक्त किसान मोर्चा ने पूर्वी उ.प्र.के सभी किसान संगठनों से 22अक्टूबर2022 को आजमगढ़ आने के लिए आह्वान किया ताकि यहां की की जनसमस्या से रुबरू होकर समर्थन करें।

धरना स्थल पर वक्ताओं में पुलिस उत्पीड़न की शिकार महिलाओं ( सुनीता व सुमित्रा) ने 12-13अक्टूबर 2022 की रात्रि के शासन-प्रशासन के दबंगई व उत्पीड़न के बारे में बात रखीं।जनसभा में जान देंगे- *जमीन नहीं देंगे* , *जमीन हमारी आपकी-नहीं किसी के बाप की*, *लडेंगे-जीतेंगे*,

*कौन बनाता हिंदुस्तान-भारत का मजदूर-किसान* आदि नारे गूंज रहे थे।

वक्ताओं ने कहा कि सरकारी व सार्वजनिक संस्थानों को बेचने व निजीकरण करने पर तुली सरकार जनता का विश्वास खो चुकी है। कल तक मुसलमानों के खिलाफ बुलडोजर चलाया ,अब गरीबों के खिलाफ चलाने लगा है।जगह-जगह बंजर,परती,जी.एस. जमीनों पर बसे गरीबों को बेदखल करने का नोटिस आ चुका है।

जल,जंगल व जमीन बचाने का सवाल छत्तीसगढ़, झारखंड ,सिलगेर व हसदेव अभ्यारण्य से होते हुए उ.प्र. में लखीमपुर खीरी, पूर्वी उ.प्र. में कैमूर व चंदौली के मुसाखाड़ से नौगढ़,बलिया,आजमगढ़ हर जगह मौजूद हैं। हवाई पट्टी,मंडी,हाईवे,एक्सप्रेस वे ,अभ्यारण्य,सेंचुरी के नाम पर नये-नये सामंत,बड़े भूस्वामी तैयार किये जा रहे हैं।इनके विकास माडल में कि़सानों,मजदूरों को *सबसे सस्ता व लाचार मजदूर* बनाया जा चुका था ,अब उन्हें मान,सम्मान व स्वाभिमान से *वंचित बंधुआ गुलाम* बनाने चलें हैं।इसलिए जमीन का सवाल आगे बढ़कर इंसानियत बचाने के सवाल तक जा पंहुचा है।

इसके लिए हम सबको गांव-गांव अपने ग्रुप मानसिकता,पार्टी,जाति,धर्म व लिंग के भेद से ऊपर उठकर ग्रामीण संघर्ष कमेटियों को बनाकर व्यापक जनान्दोलन की ओर बढ़ने की तरफ जाना होगा। हमारे इस आंदोलन में महिलाओं की अग्रिम पंक्ति में मौजूदगी जीत सुनिश्चित करने वाला है।

वक्ताओं में सुनीता,सुमित्रा, दुखहरण राम,राजीव यादव , राहुल विद्यार्थी,राजेश आज़ाद , रामनयन,विनोद यादव,अवधेश यादव,प्रमोद, आशीष उपाध्याय,सुरेश,मुन्ना लाल,राधेश्याम आदि ने अपनी बातें रखीं।अध्यक्षता दुखहरण राम और संचालन शशिकांत उपाध्याय ने किया।

Open chat
1
हमसे जुड़ें:
अपने जिला से पत्रकारिता करने हेतु जुड़े।
WhatsApp: 099273 73310
दिए गए व्हाट्सएप नंबर पर अपनी डिटेल्स भेजें।
खबर एवं प्रेस विज्ञप्ति और विज्ञापन भेजें।
hindrashtra@outlook.com
Website: www.hindrashtra.com
Download hindrashtra android App from Google Play Store