स्वदेश से लौटे गांधीजी का किसी ने नही दिया साथ, तब AMU ने दिया सहारा और फिर तीन बार अलीगढ़ गए

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर गांधी जी के भस्म पात्र के दर्शन के लिए उमड़ी हज़ारो लोगो की भीड़, बापू के अनुरोध से प्रसन्न होकर छात्रों ने जलाई विदेशी वस्त्रों की होली 

 

British Colonial rule के खिलाफ Indian Independence movement के सबसे बड़े नेता मोहनदास करमचंद्र गाँधी ने Non Violent Civil Disobedience को नियोजित कियाजो भारत को स्वतंत्रता की ओर ले गया और नागरिक अधिकारों और स्वतंत्रता के लिए प्रेरित किया 

 

 

30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी की हत्या के बाद पूरे देश की आंखों में आंसू आए थे और उनके अंतिम दर्शन के लिए सैकड़ों लोग अलीगढ़ से दिल्ली गए

ब्दुल मजीद ख्वाजा जो कि AMU के पूर्व छात्र है उन्होंने दिल्ली में बापू के अंतिम संस्कार से पहले सर्वधर्म सभा में कुरान का पाठ किया थाअब्दुल मजीद ख्वाजा ने 1920 में मोहम्मडन एंग्लो ओरिएंटल को AMU का दर्जा मिलने के बाद वहां पर, लॉ डिपार्टमेंट में पढ़ाया भी और इन्होंने इसी कॉलेज से अपनी पढ़ाई की थीस्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में भी इन्होंने गांधी जी का साथ दिया था 

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर गांधी जी के भस्म पात्र के दर्शन के लिए वहां पर, हजारों लोगों की भीड़ पहुंची थीलेफ्टिनेंट चिंतामणि ने अपनी किताब में लिखा हैं की, जब रेलवे ट्रैक पर ट्रेन रुकी तो भस्म पात्र पर लोगों ने फूलों की वर्षा कर श्रद्धांजलि दी 

गांधीजी तीन बार अलीगढ़ गए थे। पहली बार वह 1916 में MAO कॉलेज गए और आमिर मुस्तफा शेरवानी के घर ठहरे12 अक्टूबर  1920 में गांधीजी दूसरी बार अलीगढ़ गए उस दौरान वह AMU भी गए थे, तब छात्रों ने बापू कोछात्रसंघकी आजीवन सदस्यता दी थी।

उस समय बापू हबीब बाग में रुके जहां अब्दुल मजीद ख्वाजा का मकान थातीसरी बार बापू जी 5 नवंबर 1929 को अपनी पत्नी कस्तूरबा गांधी के साथ गए और उन्होंने वहां के छात्रों से खादी के इस्तेमाल के लिए अनुरोध किया

गांधी जी के अनुरोध से प्रसन्न होकर वहां के छात्रों ने विदेशी वस्त्रों की होली जलाई थी। मोहम्मद हरसत मोहानी जो कि एएमयू के पूर्व छात्र थे उन्होंने रसलगंज में खादी भंडार खोलकर स्वदेशी आंदोलन को बढ़ावा दियागांधीजी द्वारा अब्दुल मजीद ख्वाजा और छात्र संघ के पूर्व सचिव अब्दुल बारी को लिखे गए कई पत्र AMU की मौलाना आजाद लाइब्रेरी में संरक्षित है 

By:- Kriti Raj Sinha 

अपने जनपद से पत्रकारिता हेतु एवं विज्ञापन के लिए ‌संपर्क करें।WhatsApp Only: 9927373310
ख़बर एवं सूचना, प्रेस विज्ञप्ति भेजें।hindrashtran@outlook.com 
खबरों से जुड़े रहने के लिए व्हाट्सएप चैनल को फॉलो करें।

Open chat
1
हमसे जुड़ें:
अपने जिला से पत्रकारिता करने हेतु जुड़े।
WhatsApp: 099273 73310
दिए गए व्हाट्सएप नंबर पर अपनी डिटेल्स भेजें।
खबर एवं प्रेस विज्ञप्ति और विज्ञापन भेजें।
hindrashtra@outlook.com
Website: www.hindrashtra.com
Download hindrashtra android App from Google Play Store
%d bloggers like this: